इंग्लिश में लव के लिए मात्र एक शब्द जबकि संस्कृत में 96 शब्द मौजूद है

Views:73205


संस्कृत को सभी भाषाओं की माँ और देव भाषा भी कहा जाता है और आज के युग में कंप्यूटर के लिए सबसे अधिक उपयोगी भाषा संस्कृत ही है। भारत में मूल रूप से पहले संस्कृत भाषा का ही प्रयोग होता है। संस्कृत साहित्य के कोष में कविता,नाटक,वैज्ञानिक,तकनीकी,दार्शनिक और धर्म ग्रंथ शामिल है। संस्कृत एक समृद्ध परंपरा का वर्णन करती है लेकिन आजकल भारत में भी संस्कृत भाषा का प्रयोग केवल पूजा में ही किया जाता है और अधिक बोलचाल के लिए लोग इंग्लिश को ज्यादा मान्यता देते है।





भारत के एक मत के अनुसार दुनिया की पहली किताब कही जाने वाली ऋगवेद है और इसे भी संस्कृत में ही लिखा गया है ऊपर लिखी सभी बातें लगभग सभी भारतीय जानते है पर ये बात बहुत कम लोग जानते है कि इंग्लिश में लव के लिए एक ही शब्द है जबकि अन्य प्रचलित भाषाओं जैसे ग्रीक में इसके तीन और फारसी में 80  शब्द है जबकि संस्कृत में इसके लिए सबसे अधिक 96 शब्द मौजूद है।