सभी पाकिस्तानी पासपोर्ट पर लिखा होता है कि यह पासपोर्ट इसराइल को छोड़कर दुनिया के सभी देशों के लिए मान्य है

Views:271155


सभी पाकिस्तानी पासपोर्ट पर आप लिख पाएंगे कि "यह पासपोर्ट इसराइल को छोड़कर दुनिया के सभी देशों के लिए मान्य है”। पाकिस्तान और इसराइल के बीच शुरू से ऐसे सम्बन्ध नही थे दोनों के बीच में रिश्ते अच्छे नही थे तो अधिक बुरे भी नही थे। "पाकिस्तान एक इस्लामी गणराज्य है और इसराइली यहूदी होने के साथ-साथ पड़ोसी अरब देशों के साथ अपने जमीनी विवाद को लेकर अक्सर लड़ता रहता है इसलिए देश के बीच राजनयिक संबंध अत्याधिक जटिल है।





पाकिस्तान और इजरायल के बीच संपर्क आजादी के शुरुआती दिनों से ही शुरू हो गये थे पर 1947 और 1948 से ही दोनों देशों के बीच के रिश्ते जटिल बन गये थे। 1947 में  इजरायल के प्रधानमंत्री डेविड बेन-गुरियन इसराइल की पहचान बनाने के लिए पाकिस्तान संस्थापक मुहम्मद अली जिन्ना से सम्पर्क किया था पर स्वतंत्रता, इसराइल के लिए जिन्ना ने कोई प्रतिक्रिया नही दी। इसके अलावा 1952 में सर जफरुल्ला खान ने अरब देशों की एकता और इसराइल की ओर अपनी कट्टरपंथी नीतियों को भी बढावा दिया था। आपको शायद पता हो 1949 में फिलीपीन एयरलाइंस, कराची और लोद के बीच एक सीधी विमान सेवा स्थापित थी पर अब की बात करें तो पाकिस्तानी पासपोर्ट इसराइल में मान्य नही है।





संयुक्त राष्ट्र में इसराइल को शामिल करने के ख़िलाफ़ भारत ने 1949 में वोट दिया था पर भारत ने 15 सितंबर 1950 में इसराइल को मान्यता दी और तब से दोनों के बीच राजनयिक संबंध काफी खुले तौर पर तो कभी पर्दे के पीछे बनते ही जा रहे है।