जानें और समझें अपनी राष्ट्रीय भाषा हिंदी को

Views:73905


'हिंदी है हम' की आवाज कानों में पड़ते ही हर भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है। जब कभी देश के बाहर कोई शख्स हिंदी बोलते हुए नजर आता है तो निश्चित ही उस शख्स से अपनेपन का अहसास हो जाता है इसलिए आज विदेशों में कई नेता हिंदी बोलकर विदेशों में बसे भारतीय लोगो का दिल और वोट जितने का प्रयास करते नजर आते है। हिंदी की बढ़ती ताकत का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि गूगल ट्विटर फेसबुक और विकीपेडिया के अलावा अन्य कई अधिक उपयोगी साइट्स, इन्टरनेट पर मिलनी वाली सेवा और अन्य कई समक्ष मिलने वाली सेवाओं का लाभ कंपनियां आज हिंदी भाषा में भी उपलब्ध कराती है। आज मोबाइल इन्टरनेट से लेकर विदेशी भाषणों में शामिल अपनी हिंदी को बारें में आप कितना जानतें है इस बात का अनुमान आप लेख में शामिल बिन्दुओं को पढ़कर खुद लगायें।



  • हिंदी को सबसे पहले बिहार राज्य ने 1881 में उर्दू के स्थान पर अपनाया था।

  • हिंदी बेशक भारत की मूल भाषा मानी जाती है लेकिन हिंदी को भारत की अधिकारिक भाषा का दर्जा संविधान सभा से 14 सितंबर 1949 को मिला था।

  • वर्ष 1950 में हिंदी को भारतीय संघीय भाषा का अधिकारिक दर्जा प्राप्त हुआ था।

  • वर्ष 1954 में भारत सरकार ने हिंदी व्याकरण तैयार करने के लिए एक समिति का गठन किया था।

  • हिदी/उर्दू अर्थात हिंदुस्तानी दुनिया की सबसे अधिक बोली जाने वाली चौथी भाषा है।

  • हिंदी देश की उन सात भाषाओं में शामिल है जिसमें आप युआरएल ले सकते है अर्थात् आप अपना वेब एड्रेस हिंदी में ले सकते है।

  • एक अकाड़ें के अनुसार दुनिया भर में लगभग 75 करोड़ लोग हिंदी बोलते है।

  • भारत के अतिरिक्त फ़िजी देश की भी अधिकारिक भाषा हिंदी है और उसे दुनिया वाले फ़िजी हिंदी या फ़िजी बात कहते है।

  • हिंदी टाइपराइटर मार्किट में 1930 में आया था।

  • भारत के नार्थइंडिया में नागालेंड और अरुणाचल प्रदेश की अधिकारिक भाषा इंग्लिश है। ऐसे 1963 में ससंद पर एक दवाब बना कर अधिकारिक भाषा कानून एक्ट में बदलाव कर किया गया है।

  • ऑक्सफ़ोर्ड डिक्शनरी में हिंदी शब्द स्वदेशी को स्थान दिया गया है।

  • अमरीकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने अपने कार्यकाल में 114 मिलियन डॉलर का बजट हिंदी सीखने के लिए पारित कर चुके है।