अपने सुपरस्टार विक्रम के जीवनकाल और करियर से जुडी जानकारी अभी जाने


विनोद राज अर्थात विक्रम केन्नेडी का नाम भारतीय सिनेमा में नाम रातों रात नहीं हुआ है उनके बेहतरीन प्रदर्शन और सुपरस्टार लिस्ट में उनके शामिल होने के पीछे बड़ी लंबी और कड़ी मेहनत शामिल है। विक्रम का फ़िल्मी करियर 1990 में छोटी बजट की फिल्म एन कधल कनमनी से हुआ था लेकिन उनको सफलता 1999 में बाला की ट्रेजेडी फिल्मम सेतु से मिली।

कॉलीवुड में वह अपने प्रशंसकों के और लेडी के बीच काफ़ी प्रसिद्ध है। डांस एक्शन और अपनी आवाज़ पर मेहनत करने वाली विक्रम से जुड़े कुछ फैक्ट आप नीचे देख सकते है।



  • 17 अप्रैल 1966 को जन्मे विक्रम का निक नेम चियान 1999 में रिलीज हुई फिल्म सेतु के बाद मिला था।




  • विक्रम मोंटफोर्ट स्कूल और लोयोला कॉलेज, चेन्नई के छात्र रह चुके है।


  • विक्रम ने एमबीए को बीच में छोड़ दिया था क्योकि सड़क दुर्घटना में वह तीन साल के लिए अपाहिज हो गए थे।




  • विक्रम की शैलजा बालाकृष्णन से शादी हो चुकी है और उनके दो बच्चे हैं।




  • फिल्मों में उतरने से पहले, विक्रम छोला टी और अल्ल्विं घड़ियों जैसे ब्रांडों के लिए मॉडलिंग कर चुके है।




  • विक्रम की 'सेतु' फिल्म एक बड़ी हिट फिल्म थी इसके अतिरिक्त इस फिल्म को समीक्षकों से भी काफी प्रशंसा मिली थी। इस फिल्म की वजह से विक्रम को फिल्मफेयर और तमिलनाडु राज्य फिल्म पुरस्कार सहित कई पुरस्कार मिले।


  • डायरेक्टर बाला ने विक्रम के बारे में कहा है कि वह विक्रम की क्षमता का केवल 50 % प्रतिभा का उपयोग ही कर पाए है। विक्रम एक महान अभिनेता है और उनकी एक्टिंग फ़िल्मी दुनिया में मील का पत्थर साबित हो सकती है।




  • 2003 में पिथमगन फिल्म के लिए उनको राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से नवाजा गया था।




  • 2010 में आई मणिरत्नम की फिल्म 'रावण', में विक्रम ने ऐश्वर्या राय के साथ स्क्रीन साँझा की थी।




  • तमिल अभिनेता विक्रम कंदस्वामी और जैमिनी जैसी फिल्मों के लिए पार्श्व गायक की भूमिका निभा चुके है।




  • साल 2011 में यूनिवर्सिटी मिलान की तरफ से उनको डॉक्टरेट की मानद उपाधि दी गयी है।


विक्रम की उल्लेखनीय और प्रयोगधर्मी फिल्मों की बात करें तो सेतु ,धील 'धूल काशी 'भीम', 'कंदस्वामी' जैमिनी,पिथामगन रावनन,आई जैसी फ़िल्में है। विक्रम की कई बेहतरीन फिल्मों का डब करके हिंदी में रिलीज किया जा चुका है और उनकी फिल्मों को हिंदी दर्शकों ने काफी सराहा है।